Know The Truth

14 सितंबर को मनाते हैं हिंदी दिवस, जानिए इतिहास और महत्व

BNNBHARAT: हर साल हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है.  इस दिन ही देवनागरी लिपि में हिंदी को भारत की आधिकारिक भाषा के रूप में अपनाया गया था. साल 1953 में पहली बार हिंदी दिवस का आयोजन हुआ था. तभी से यह सिलसिला बना हुआ है. हिंदी दिवस को मनाने का उद्देश्य हिंदी भाषा की स्थिति और विकास पर मंथन को ध्यान में रखना है. देश में करीब 77 प्रतिशत से भी ज्यादा लोग हिंदी बोलते हैं.

14 सितबंर 1949 को संविधान सभा में एक मत से हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया था.  इस निर्णय के बाद हिंदी को हर क्षेत्र में प्रसारित करने के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति, वर्धा के अनुरोध पर 1953 से पूरे भारत में 14 सितंबर को हर साल हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाने लगा. हिंदी भारत की 22 भाषाओं में से एक है. अधिकतर भारतीय हिंदी को बोलते और समझते हैं. उत्तर भारत के राज्यों राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश में हिंदी बोली और समझी जाती है.

हिंदी दिवस पर हिंदी के प्रसार और प्रचार के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इस दिन स्कूल, कॉलेजों में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम भी आयोजित होते हैं. 14 सितंबर 1953 को पहली बार देश में हिंदी दिवस मनाया गया था. हिंदी केवल हमारी मातृभाषा या राष्ट्रभाषा ही नहीं अपितु यह राष्ट्रीय अस्मिता और गौरव का प्रतीक है. भाषा के बिना कोई भी अपनी बात को, अपनी भावनाओं को अभिव्यक्त नहीं कर पाता. भाषा के जरिए ही विभिन्न प्रकार की संस्कृति को जाना जा सकता है. उसमें हिंदी भाषा बहुत महत्वपूर्ण है. हिंदी में आप सहजता से अपनी बात समझा सकते हैं.

हिंदी को कब मिली पहचान

सरकारी कार्यालयों और शिक्षण संस्थानों में 15 दिन तक हिंदी पखवाड़ा मनाया जाता है. 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा की ओर से हिंदी को आजाद भारत की मुख्य भाषा का दर्जा प्राप्त हुआ था. इसका उल्लेख संविधान के अनुच्छेद 343 (1) में किया गया है. अनुच्छेद के अनुसार भारत की राजभाषा ‘हिंदी’ और लिपि ‘देवनागरी’ है.

क्यों मनाया जाता है हिंदी दिवस

हिंदी दिवस के मौके पर देशभर के स्कूलों, कॉलेज और शैक्षणिक संस्थानों में कई तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है. हिंदी पूरे विश्व में चौथी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है. वहीं दूसरी ओर भारत में अन्य कई भाषाएं विलुप्त हो रही हैं. जो चिंतन का विषय है. ऐसे में हिंदी की महत्ता बताने और प्रचार-प्रसार के लिए हिंदी दिवस को मनाया जाता है.

आइए जानते हैं हिंदी से जुड़े ये तथ्य: 

  • अंग्रेजी ने भी कई शब्द हिंदी से लिए हैं. इनमें अवतार, बंग्लो, जंगल, खाकी, कर्म, लूट, मंत्र, निर्वाण, शैंपू, ठग, योग, गुरु आदि.  
  • देश में सबसे पहले बिहार ने हिंदी को कार्यालय की भाषा बनाया.
  • 1805 में प्रकाशित  श्रीकृष्ण पर आधारित किताब प्रेम सागर को हिन्दी में लिखी गई पहली किताब माना जाता है. इसे लल्लू लाल ने लिखा था
  • हिंदी भाषा मॉरिशस, फिजी, सुरीनाम, त्रिनिदाद और टोबेगो में भी बोली जाती है.
  • हिंदी वैसी सात भाषाओं में से एक है जिसका उपयोग वेब एड्रेस बनाने में किया जा सकता है.
  • हिंदी को वैश्विक स्तर पर बढ़ावा देने के लिए 1975 से ‘विश्र्व हिंदी सम्मेलन’ का आयोजन शुरू किया गया.
%d bloggers like this: