परवरिश

बेहतर पालन-पोषण के लिए सकारात्मक सामाजिक नियम अनिवार्य और महत्वपूर्ण हैं (परवरिश-2)

राहुल मेहता रांची: खेल में रोहन को चोट लगने पर रोने लगा. उसके आठ वर्षीय दोस्त संदीप ने ताना मारा- क्या लड़कियों जैसा रो रहे हो ? मर्द को दर्द नहीं होता. क्या वास्तव में मर्द को दर्द नहीं होता...

पितृसत्ता और किशोरियों की परवरिश (परवरिश: अभिभावक से दोस्त तक-05)

राहुल मेहता, सुनीता की शादी उसके पिता ने तय कर दी. मां ने कहा- “एक बार उससे पूछ तो लेते”. पिताजी ने टका सा जवाब दिया- “उससे क्या पूछना, पिता हूं उसका, कोई दुश्मन नहीं?”. शादी के कुछ दिनों बाद...

किशोरों में आत्महत्या की प्रवृति (परवरिश: अभिभावक से दोस्त तक-04)   

राहुल मेहता, पिछली कड़ी में हम रितिका की दुखद कहानी से रूबरू हुए थे. नवीं कक्षा में अनुतीर्ण होना, विद्यालय परिवर्तन का  सदमा और अभिभावकों का ताना रूपी गोचर(विसिबल) कारणों से रितिका ने आत्महत्या जैसे विकल्प को अपनाया. लेकिन क्या...

दोषारोपण बनाम समाधान (परवरिश: अभिभावक से दोस्त तक-03)

राहुल मेहता, रितिका पढ़ने में औसत थी. अपनी ओर से पूरी मेहनत करती, परन्तु परिणाम मेहनत के अनुरूप नहीं आता. उसे समझ में नहीं आता कि गड़बड़ी आखिर हो कहां रही है. उसने हमेशा लगता कि अंक कम आयें हैं....

किशोरों की थकान और निंद्रा (परवरिश: अभिभावक से दोस्त तक-02)

राहुल मेहता, पल्लवी सबकी लाड़ली थी. घर हो या बाहर उसने कभी किसी को शिकायत का मौका नहीं दिया, सिवाय दादाजी के. दादाजी भी यूं तो उसके व्यवहार और शैक्षणिक प्रदर्शन से काफी खुश रहते थे, उन्हें शिकायत थी तो...

विद्यालय के बाद का जीवन और अवसाद (परवरिश: अभिभावक से दोस्त तक-01)

राहुल मेहता, नकुल बहुत ही मेधावी छात्र था. हमेशा वर्ग में प्रथम तीन में ही आता था. उसने माध्यमिक बोर्ड के लिए काफी मेहनत किया था. परिणाम निकला तो घर में सभी बहुत खुश थे. उसे 94.3% अंक प्राप्त हुए...

पालन-पोषण की शैली (परवरिश-3)

राहुल मेहता सुनीता के साथ छेड़-छाड़ की घटना के बाद उसपर अनेक पाबंदियां लगा दी गयी. उसका अकेले बाहर आना जाना सीमित हो गया. उसकी दोस्त रेखा ने उसे कहा- “मैंने शुरू में ही कहा था न कि घर में...

बच्चों की बेहतर पालन-पोषण और अभिभावकों की जिम्मेदारियां (परवरिश -1)

राहुल मेहता, रांची: बच्चों के परवरिश के महत्त्व से हम सभी वाकिफ हैं. परवरिश निर्धारित करता है कि बच्चा कैसे बड़ा होगा और बड़ा होकर कैसा होगा. अधिकतार माता पिता बच्चों के लिए अपना जीवन न्योछावर कर देतें हैं, कभी...

Welcome Back!

Login to your account below

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.

Add New Playlist