संस्कृति और विरासत

नीम / निम्ब के गुण और प्रयोग विधि, जानिए इसके फायदे : वनौषधि – 19

प्रचलित नाम- नीम प्रयोज्य अंग- पंचांग मूल की छाल, कांड की छाल, पत्र, पुष्प, फल (कच्चे तथा पके हुए) स्वरूप- यह एक सघन विशाल 35 -45 फीट ऊँचा वृक्ष, जिसकी शाखाएँ तथा उप शाखाएँ फैली हुई होती है। शाखाओं के...

Read more

सरस्वती पूजा 2022:-जानें पौराणिक मान्यता और पूजन विधि…

  यह त्यौहार माघ मास के शुक्लपक्ष की पंचमी को मनाया जाता है. हिन्दू कैलेंडर के अनुसार माघ शुक्ल पंचमी ति​थि 05 फरवरी को प्रात: 03 बजकर 47 मिनट से शुरू हो रही है, यह 06 फरवरी को प्रात: 03...

Read more

आज मनाया जा रहा मकर संक्रांति का पर्व, सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे, जानें शुभ मुहूर्त और दान विधि

  मकर संक्रांति 2022: मकर संक्रांति का पर्व आज मनाया जा रहा है. ज के दिन सूर्य देव धनु राशि से​ निकलकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं यही मकर संक्रांति कहलाता है. आज के दिन स्नान कर सूर्य देव...

Read more

झारखंड के गर्म पानी के कुण्ड / स्रोत

झारखंड राज्य में करीब 20 से ज्यादा प्राकृतिक गर्म पानी के स्रोत हैं। उनमें से ज्यादातर जगहों पर मकर संक्राति के दिन मेला लगता है। भारत का सबसे ज्यादा तापमान वाला गर्म पानी का कुंड हज़ारीबाग जिले के बरकट्ठा में...

Read more

माँ छिन्नमस्तिके मंदिर, रजरप्पा

मां छिन्नमस्तिके / रजरप्पा मंदिर भैरवी और दामोदर नदियों के संगम पर स्थित है। यह झारखंड की राजधानी रांची से 80 किमी और जिला रामगढ़ से 28 किमी की दूरी पर है। यहां मंदिर, दो नदियों का संगम स्थल और...

Read more

झारखण्ड / झारखंड

झारखण्ड भारत का एक राज्य है। राँची इसकी राजधानी है। बिहार के दक्षिणी हिस्से को विभाजित कर 15 नवंबर 2000 को झारखंड 28वां राज्य बनाया गया . लगभग संपूर्ण प्रदेश छोटानागपुर के पठार पर अवस्थित है। झारखंड की सीमाएँ उत्तर...

Read more

नालंदा विश्वविद्यालय

परिचय नालंदा अखंड भारत में उच्च शिक्षा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण और विख्यात केन्द्र था। महायान बौद्ध धर्म के इस शिक्षा-केन्द्र में हीनयान बौद्ध-धर्म के साथ ही अन्य धर्मों के तथा अनेक देशों के छात्र पढ़ते थे। इस विश्वविद्यालय की स्थापना...

Read more

शारदापीठ

अखंड भारत के सबसे पुराने विश्वविद्यालयों में से एक, जिसे शारदा विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है, अपनी लिपि के लिए काफी प्रसिद्ध शारदा पीठ ही है और कहा जाता है कि पहले इसमें लगभग 5,000 विद्वान थे और...

Read more

तक्षशिला विश्वविद्यालय

संभवतः यह विश्व का प्रथम विश्विद्यालय था जिसकी स्थापना 700 वर्ष ईसा पूर्व में की गई थी। जिस नगर में यह विश्वविद्यालय था उसके बारे में कहा जाता है कि श्री राम के भाई भरत के पुत्र तक्ष ने उस...

Read more

विक्रमशिला विश्वविद्यालय

विक्रमशिला के महाविहार की स्थापना नरेश धर्मपाल (775-800ई.) ने करवायी थी। उसने यहां मंदिर तथा मठ बनवाये और उन्हें उदारतापूर्वक अनुदान दिया। एक मान्यता यह है कि महाविहार के संस्थापक राजा धर्मपाल को मिली उपाधि 'विक्रमशील' के कारण संभवतः इसका...

Read more