वैदिक भारत

सोमनाथ ज्योतिर्लिंग, कथा, इतिहास और महत्व : ज्योतिर्लिंग – 2

गुजरात राज्य के काठियावाड़ क्षेत्र में समुद्र के किनारे विश्वप्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग, सोमनाथ ज्योतिर्लिंग हैं। यह ज्योतिर्लिंग सोमनाथ मंदिर में स्थापित है। पहले इस क्षेत्र को प्रभासक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता था।हमारे पुराणों के अनुसार सोमनाथ ज्योतिर्लिंग भगवान शिव...

ज्योतिर्लिंग क्या है? पृथवी पर महादेव के कितने ज्योतिर्लिंग हैं : ज्योतिर्लिंग – 1

वेद और पुराणों के अनुसार जहां जहां महादेव स्वयं प्रगट हुए उन स्थलों पर महादेव शिव के शिवलिंग की ज्योतिर्लिंग के रूप में पूजा की जाती है। महादेव शिव के 12 ज्योतिर्लिंग हैं। इस सीरीज में हम भगवान महादेव से...

श्रावण / सावन का महीना

भोलेनाथ को सबसे प्रिय है यह महीना। महादेव ने स्वयं कहा है— द्वादशस्वपि मासेषु श्रावणो मेऽतिवल्लभ: । श्रवणार्हं यन्माहात्म्यं तेनासौ श्रवणो मत: ।। श्रवणर्क्षं पौर्णमास्यां ततोऽपि श्रावण: स्मृत:। यस्य श्रवणमात्रेण सिद्धिद: श्रावणोऽप्यत: ।। अर्थात मासों में श्रावण मुझे अत्यंत प्रिय...

गुरु पूर्णिमा  या आषाढ़ पूर्णिमा

आषाढ़ पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा कहते हैं। सनातन संस्कृति में गुरु देवता को तुल्य माना गया है। गुरु को हमेशा से ही ब्रह्मा, विष्णु और महेश के समान पूज्य माना गया है। वेद, उपनिषद और पुराणों का प्रणयन करने वाले...

अतिविषा के औषधीय गुण और फायदे : वनौषधि – 18

अतीस वनौषधि हिमालय पर 2000 से 5000 फुट की ऊंचाई पर पाया जाने वाला पौधा है। इसका ज्ञान हमारे आचार्यों को अत्यन्त प्राचीनकाल से था। प्राय: समस्त रोग को दूर करने वाली होने से यह विश्वा या अतिविश्वा के नाम...

जानिए शिकाकाई के औषधीय गुण : वनौषधि 16

शिकाकाई इसे विमल या सप्तला भी कहते है। इसके पौधे का स्वरूप एक फैला हुआ कंटकी गुल्म, शाखाएँ लम्बी पतली, उपशाखाएँ श्वेताभ जिन पर वक्रकाटों की पाँच कतारें होती हैं। पत्ते पक्षाकार संयुक्त पुष्प श्वेत पीतवर्णी या गुलाबी जो गोल...

बबूल के फल, फूल, गोंद और पत्तों के हैं कई फायदे : वनौषधि 15

बबूल इसे कीकर भी कहते हैं। यह मूलतः अफ्रीका  एवं भारत में पाया जाने वाला वृक्ष है। इस पेड़ में भगवान विष्णु का निवास माना जाता है। भारत में औषधि के रूप में एवं दातुन करने में बाबुल का खूब...

बड़ी इलायची के फायदे, औषधीय गुण : वनौषधि 14

बड़ी इलायची इसे संस्कृत में वृहदेला, अंग्रेजी में Black cardamom तथा हिंदी में 'काली इलायची', 'भूरी इलायची', 'लाल इलायची', 'नेपाली इलायची' या 'बंगाल इलायची' आदि नामों में जाना जाता है। इसके सुखाये हुए फल और बीज भारत सहित कई अन्य...

जानिए काजू बदाम के औषधीय गुण : वनौषधि – 13

काजू शुक्रवर्धक, त्वचा को मृदु बनाने के गुण वाली तथा पौष्टिक है। प्रचलित नाम- काजू बदाम वैज्ञानिक नाम - Anacardium occidentale काजू एक प्रकार आयुर्वेदिक औषधि है जिसका फल सूखे मेवे के लिए भी किया जाता है। काजू से अनेक...

अकरकरा के औषधीय गुण : वनौषधि – 12

अकरकरा में कामेच्छा को बढ़ाने वाले गुण होते हैं। पुरुषों के लिंग विकारों में प्रयोज्य। प्रचलित नाम- अकरकरा वैज्ञानिक नाम - Anacyclus pyrethrum प्रयोज्य अंग-मूल, पत्र एवं पुष्प । स्वरूप-चिरस्थायी सीधे किन्तु झुके हुए गुल्म, पत्ते दिपक्षवत् संयुक्त, पुष्प पीले...

Welcome Back!

Login to your account below

Retrieve your password

Please enter your username or email address to reset your password.

Add New Playlist