BNNBHARAT NEWS
Sach Ke Sath

रेशम उत्पादन में बेहतर कार्य करने वालों कृषकों को मुख्यमंत्री ने किया सम्मानित

540

सिकंदर शर्मा,

दुमका:  समारोह “नई उड़ान” का आयोजन इंडोर स्टेडियम दुमका में किया गया. इस दौरान रेशम उत्पादन में बेहतर कार्य करने वालों को कृषकों को मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित किया गया.

इस अवसर पर उपस्थित तसर उत्पादन से जुड़े कृषकों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि रेशम के क्षेत्र में झारखंड अपनी एक अलग पहचान रखता है. वही विशेषकर संथाल परगना पूरे राज्य में रेशम उत्पादन से लेकर रेशम के वस्त्र बनाने तक में अपनी पहचान रखता है. पूरे राज्य में रेशम की सबसे अधिक खेती दुमका जिले में होती है.

इस पहचान को बरकरार रखने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि विभाग बेहतर ढंग से कार्य योजना तैयार करें ताकि रेशम से जुड़े लोगों की आय में वृद्धि हो सके तथा स्वरोजगार के और भी बेहतर अवसर प्रदान किए जा सकें.
मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी घरों में रोजगार अत्यंत आवश्यक है. लोगों के पास रोजगार होगा तभी उनका सर्वांगीण विकास हो सकेगा.

bhagwati

उन्होंने कहा कि आप सभी रेशम का धागा निर्माण करने का कार्य करते हैं रेशम के धागे से कई वस्तुओं का निर्माण करते हैं साथ ही उस उत्पादन में कलाकारी का भी कार्य करते हैं. अपने कार्य को बेहतर ढंग से करें ताकि आप अधिक से अधिक आय अर्जित कर सकें. सरकार द्वारा जो भी तकनीकी सहयोग आपको दिया जा रहा है उसका भरपूर लाभ उठाएं.

हमें तेजी से अपने उत्पादों को नए-नए तकनीक से जोड़ने की आवश्यकता है. हाथों से पहले रेशम के धागे को निकालने का कार्य किया जाता था. तकनीक के आ जाने से जिस धागे को निकालने के लिए महीनों का वक्त लगता था अब वह कुछ घंटों में ही हो जाता है. तथा जिस कार्य में घंटों लगते थे वह मिनटों में ही संभव हो जाता है.

उन्होंने कृषकों से कहा कि खादी हमारे देश की पहचान को दर्शाता है. आज बाजार में कई ऐसे उत्पाद हैं जो खादी जैसे हैं या यूं कहें कि खादी ही हैं लेकिन बेहतर तकनीक के माध्यम से निर्माण होने के कारण उसकी मांग बहुत अधिक है. उन्होंने कहा कि अपने उत्पाद को बेहतर बनाएं ताकि उसकी मांग पूरे विश्व में हो. मुख्यमंत्री श्री हेमंत सोरेन ने कहा कि रेशम उत्पादन के क्षेत्र में अधिक से अधिक लोगों को जोड़कर स्वरोजगार उपलब्ध कराने की जरूरत है ताकि लोगों के जीवन स्तर में सुधार आये.

इस क्षेत्र में आपकी रूचि को देखते हुए निश्चित रूप से सरकार तसर उत्पादन के क्षेत्र में कार्य करेगी ताकि इस इस क्षेत्र को सशक्त बनाया जा सके.

उन्होंने कहा कि प्रकृति की व्यवस्था से मजबूत व्यवस्था पूरे धरती पर नहीं है. हमें प्रकृति द्वारा की गई व्यवस्था का संरक्षण करने की जरूरत है.

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

add44