BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

एक बार फिर करंसी सर्कुलेशन पहुंच गया 21 लाख करोड़ रुपए तक : अनुराग ठाकुर

522

हिमाचल प्रदेश: धर्मशाला में करीब तीन साल पहले 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्लैकमनी के खिलाफ नोटबंदी का फैसला लिया था और 500 और 1000 रुपए के नोट बैन कर दिए गए थे.

नोटबंदी के बाद डिजिटल इकॉनमी को मजबूत करने के लिए कई पहल की गई. नतीजा यह रहा कि 2016-17 में इकॉनमी में करंसी सर्कुलेशन घटकर 13 लाख करोड़ पर पहुंच गया था, लेकिन तीन सालों के भीतर मार्च 2019 तक करंसी सर्कुलेशन एक बार फिर से 21 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया है. वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने लोकसभा में लिखित में यह जवाब दिया.

bhagwati

सदन को दी गई जानकारी के मुताबिक नोटबंदी के बाद मार्च 2017 में करंसी सर्कुलेशन 13 लाख करोड़ था, मार्च 2018 में यह आंकड़ा पहुंच कर 18 लाख करोड़ हो गया और मार्च 2019 में तो यह 21 लाख करोड़ को पार कर गया. नोटबंदी से ठीक पहले मार्च 2016 में इकॉनमी में करंसी सर्कुलेशन करीब 16.41 लाख करोड़ था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के समय कहा था उन्होंने नोटबंदी का फैसला आतंकवाद को फंडिंग रोकने, भ्रष्टाचार कम करने और ब्लैकमनी पर लगाम करने के लिए किया था, लेकिन कुछ दिनों बाद ही 2000 के नोट को लॉन्च किया गया और 500 के नए नोट को भी नए रूप में पेश किया गया.

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

yatra
add44