BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

उपचार में लापरवाही बरतने वाले कर्मियों को सो कॉज

तीन दिनों के अंदर स्पष्टीकरण का दिया निर्देश .

57

कोडरमा : सदर अस्पताल कोडरमा में भर्ती एक बच्ची को चिकित्सक द्वारा रविवार को रांची रेफर कर दिया गया. वहीं बच्ची के पिता द्वारा रांची ले जाने में असमर्थता जताने के बाद भी अस्पताल प्रबंधन उनकी एक न सुनी. इसके उपरांत बच्ची के पिता अपनी बेटी का सही उपचार कराने को ले जिले के उपायुक्त घोलप रमेश गोरख के आवास पहुंच गये और उन्हें जानकारी दी.

Also Read This:- भारत में बाघों की संख्या 2018 में बढ़कर 2,967 हुई : नरेंद्र मोदी

bhagwati

इसके उपरांत उपायुक्त रमेश स्वयं सदर अस्पताल पहुंच गये और अस्पताल में भर्ती बच्ची के ईलाज के बारे में चिकित्सकों से जानकारी ली. चिकित्सक द्वारा बताया गया कि बच्ची को खून की कमी थी, जिसे चढ़ा दिया गया है, परन्तु सांस लेने में तकलीफ है, इसलिए इसे रांची रेफर किया जा रहा है. वहीं उपायुक्त ने सिविल सर्जन को बच्ची के उपचार में कमा नहीं होने देने एंव जरुरत पड़ने पर एम्बुलेंस से रांची भेजवाने के निर्देश दिया.

इसके उपरांत उपायुक्त ने अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड एंव पुरुष वार्ड के निरीक्षण किया. निरीक्षण के क्रम में मरीजों के देखभाल, साफ-सफाई व चिकित्सकीय व्यवस्था में काफी कमी पायी गयी. यहां तक कि मरीजों के बेड पर चादर भी नहीं पाये गये. इस दौरान मरीजों द्वारा चिकित्सक व कर्मियों को खरी-खोटी भी सुनाई एंव सिविल सर्जन डॉं.पार्वती नाग को इलाज में लापरवाही बरतने वाले कर्मियों पर कार्यवाई करने का निर्देश दिए. वहीं मरीजों के बेड पर चादर नहीं पाय जाने का मामले में अपायुक्त ने सिविल सर्जन से संबंधित कमी से तीन दिनों के अंदर स्पष्टीकरण मांगने का निर्देश दिया.

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

add44