SACH KE SATH
add_doc_3
add_doctor

विधाता की श्रेष्ठ कृतियों में एक थे जमशेदजी नसरवान जी टाटा : राजेश शुक्ल

जमशेद जी की 182 वी जयंती पर राजेश शुक्ल ने रतन टाटा, और टी वी नरेंद्रन को दी बधाई, उनकी सराहना की.

Jamshedpur:- झारखंड स्टेट बार कौंसिल के वाईस चेयरमैन और राज्य के सुप्रसिद्ध वरिष्ठ अधिवक्ता राजेश कुमार शुक्ल ने कहा है  देश मे  औद्योगिक जगत के पुरोधा ,टाटा समूह के संस्थापक  जमशेदपुर जी नसरवान जी टाटा  विधाता की श्रेष्ठ कृतियों में एक थे. उनकी 182 वी जयंती पर आज बिस्टुपुर पोस्टलपार्क में उनकी प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद  शुक्ल ने कहा कि जमशेदपुर नगरी के जमशेदपुर जी महान  शिल्पकार थे. कम्पनी चलाने के साथ सामाजिक दायित्वों का भी पुरी  तत्परता से पालन करना और अपने संस्थापक के दर्शन को हर स्तर पर लागू करने का काम टाटा समूह ने बराबर किया है.

 शुक्ल जो अखिल भारतीय अधिवक्ता कल्याण समिति के राष्ट्रीय महामंत्री भी है ने कहा है कि टाटा स्टील ने सामाजिक दायित्वों को हमेशा महत्व दिया , टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक रुसी मोदी,  जे जे ईरानी, बी मुथुरमन,  हेमन्त नेरुरकर, और अब  टी वी नरेंद्रन  ने अपने संस्थापक और  रतन टाटा के  कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी के दर्शन को मूर्त रूप देने का काम किया है और कर रहे है. जो बेजोड़ और बेमिसाल है.

 शुक्ल ने कहा है कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में  टाटा ट्रस्ट में चेयरमैन  रतन टाटा ने 1500 करोड़ की राशि दी , कोरोना मरीजो का मुफ्त में इलाज करवाया तथा  रांची सहित कई राज्यो में हॉस्पिटल बनवाया जिसकी पूरी प्रशंसा हुई.

उन्होंने संस्थापक दिवस पर टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन  रतन टाटा, टाटा समूह के चेयरमैन ,एन चंद्रशेखरन, और टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक  टी वी नरेंद्रन को बधाई दी और आशा व्यक्त किया कि टाटा समूह अपने सामाजिक दायित्वों  का पूरी तरह भविष्य में भी  पालन  करता रहेगा.