BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

एक हफ्ते में प्याज की कीमत 40 फीसदी गिरी, सड़ रहा 7 हजार टन विदेशी प्याज

नई फसल आने से प्याज की कीमत में आई कमी

नई दिल्ली: देश प्याज की थोक कीमतों में पिछले एक हफ्ते में 40 फीसदी की गिरावट आ गई है. दूसरी तरफ, विदेश से आयात हुआ प्याज कोई लेने वाला नहीं दिख रहा और मुंबई के बंदरगाह पर 7 हजार टन आयातित प्याज सड़ रहा है.

कुछ महीने पहले जब प्याज की कीमतें 150 रुपये की ऊंचाई पर पहुंच गई थी, तो सरकार ने विदेश से आयात का फैसला किया था. हालांकि, घरेलू बाजार में राहत मिलने के बाद आयातित प्याज सड़ने लगा है.

एजेंसियों की खबरों के मुताबिक मुंबई के जेएनपीटी पर बाहर से आयातित 7 हजार टन प्याज सड़ रहा है. यह 45 रुपये प्रति किलो कीमत पर यह प्याज आयात किया गया है, जबकि थोक बाजार में कीमत 24 रुपए प्रति किलो पहुंच गई है.

देश की थोक मंडियों में मंगलवार को लगातार पांचवें दिन प्याज की कीमतों में गिरावट आई. एक हफ्ते में कीमत 40 फीसदी गिर गई है. महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित लासलगांव मंडी में मंगलवार को प्याज की कीमत 24 रुपये प्रति किलोग्राम थी.

bnn_add

यह 20 जनवरी के 40 रुपये प्रति किलो रेट के हिसाब से करीब 40 फीसदी की गिरावट है. इसके पहले प्याज की यह कीमत 6 नवंबर को देखी गई थी. इसकी वजह से खुदरा प्याज की कीमत 40 से 44 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई है.

ऐसे में आयातक माल खाली करवाने की जल्दी में नहीं दिख रहे. मुंबई के जेएनपीटी पर एक महीने से 250 रेफ्रिजरेटेड कंटेनर्स में रखा गया 7,000 टन इंपोर्टेड प्याज सड़ रहा है.

कुछ दिनों पहले उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने भी कहा था कि केंद्र सरकार राज्यों को 55 रुपए प्रति किलो की दर से प्याज दे रही है. सरकार ने अब तक विदेशों से 24,500 टन प्याज मंगाया है, जबकि आयात के कुल 40,000 टन के सौदे हुए हैं. लेकिन राज्यों ने केवल 2,000 टन प्याज ही उठाया है, लिहाजा अब बचे हुए 89 फीसदी प्याज के सड़ने की चिंता बढ़ रही है. उन्होंने कहा था कि राज्य सरकारेंआयातित प्याज लेने से मना कर रही हैं.

पिछले दिनों नए प्याज की आवक मंडियों में बढ़ गई है जिसकी वजह से प्याज की कीमतों में गिरावट आई है. प्याज का दाम बढ़ने पर किसानों ने रबी सीजन में अच्छी फसल लगाई है और प्याज का रकबा चालू सीजन में 9.34 लाख हेक्टेयर होने का अनुमान है, जबकि पिछले साल रबी सीजन में प्याज का रकबा 7.6 लाख हेक्टेयर था.

 


बीएनएन भारत बनीं लोगों की पहली पसंद

न्यूज वेबपोर्टल बीएनएन भारत लोगों की पहली पसंद बन गई है. इसका पाठक वर्ग देश ही नहीं विदेशों में भी हैं. खबर प्रकाशित होने के बाद पाठकों के लगातार फोन आ रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान कई लोग अपना दुखड़ा भी सुना रहे हैं. हम लोगों को हर संभव सहायता करने का प्रयास कर रहें है. देश-विदेश की खबरों की तुरंत जानकारी के लिए आप भी पढ़ते रहें bnnbharat.com


  • क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हमें लाइक(Like)/फॉलो(Follow) करें फेसबुक(Facebook) - ट्विटर(Twitter) - पर. साथ ही हमारे ख़बरों को शेयर करे.

  • आप अपना सुझाव हमें [email protected] पर भेज सकते हैं.

बीएनएन भारत की अपील कोरोनावायरस पूरे विश्व में महामारी का रूप ले चुकी है. सरकार ने इससे बचाव के लिए कम से कम लोगों से मिलने, भीड़ वाली जगहों में नहीं जाने, घरों में ही रहने का निर्देश दिया है. बीएनएन भारत का लोगों से आग्रह है कि सरकार के इन निर्देशों का सख्ती से पालन करें. कोरोनावायरस मुक्त झारखंड और भारत बनाने में अपना सहयोग दें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

gov add