BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

पी एच डी विभाग ने बिगाड़ी नव निर्माण सड़क की सूरत

जलापूर्ति के संवेदक के मनमानी रवैये से ग्रामीणों में है भारी गुस्सा

556

प्रमोद कुमार सिंह,

चतरा (कान्हाचट्टी): जब किसी कार्य को विशेष कर ग्रामीण क्षेत्रो में किया जाता है तो ग्रामीणों में गांवों की विकास की आस जगती है परंतु विकास के नाम पर लूट होता है और विकास की गति को दूसरे तरफ मोड़ा जाता है तो ग्रामीणों में गुस्सा चरम पर हो जाता है.एक तरफ विकास की लकीर खिंची जाती है तो दूसरी तरफ पहले से किए गए कार्य को बर्बाद करते जाते हैं.

ऐसा ही मामला हो रहा है कान्हाचट्टी प्रखंड में. कान्हाचट्टी प्रखंड के सांसद आदर्श पंचायत कैंडी नगर में पी एच डी द्वारा कराए जा रहे लघु पेयजल योजना के तहत जल मीनार बनाया जा रहा है. जल मीनार बी के प्लस टू उच्च विद्यालय से हेसापरम जाने वाली सड़क के नदी के बगल में बनाया जा रहा है. जलमीनार से पानी लगभग पंचायत के सात गांवों में जाना है. इसी पानी को ले जाने के लिए पथ प्रमंडल के द्वारा बनाए जा रहे सड़क निर्माण कार्य में हाल में किए पिच से सटे पाईप को बिछा रहा है. कहीं कहीं कार्य करा रहे एजेंसी ने हाल ही में किए गए पिच को भी उखाड़ दिया है. बी के स्कूल से टटरा गांव तक सड़क में पिच के बगल में ही डाला है. जिससे सड़क जल्दी ही खराब होने का अंदेशा जताया जा रहा है. वहीं टटरा से बेदोली गांव तक आर ई ओ द्वारा एक वर्ष पहले किए गया पिच को भी कई जगहों पर उखाड़ कर पाइप डालने का कार्य किया जा रहा है.

सड़क को संवेदक ने बनाया नर्क

बी के स्कूल से हेसापरम जाने वाली सड़क के बगल में संवेदक द्वारा पाइप डालने के लिए कोड़े गए मिट्टी को पिच पर ही छोड़ दिया जिससे सड़क पर मिट्टी और मिट्टी में पानी पड़ने के कारण सड़क नर्क में तब्दील हो गया है. हेसापरम के ग्रामीणों ने बताया की सड़क पर मिट्टी है और पानी जब पड़ गया है तो सड़क किचड़ में तब्दील हो गया है जिससे कान्हाचट्टी और राजपुर बाजार जाने के लिए आठ किलो मिटर की दूरी तय करना पड़ रहा है. वहीं टटरा गांव में भी संवेदक द्वारा मिट्टी को वर्तमान में बनाए गए पिच सड़क पर ही मिट्टी डाल कर छोड़ दिया. जिससे प्रखंड भर के लोगों को चतरा आने जाने में भारी कठिनाई हो रही है.

bhagwati

पाईप बिछाने का क्या है सिस्टम

पी एच डी द्वारा बिछाए जा रहे पानी आपूर्ति की पाईप को पथ प्रमंडल द्वारा या आर ई ओ द्वारा बनाए गए पिच के साथ साथ उसके सड़क के दोनों किनारे पांच पांच फीट तक भरे गए फ्लाइन्क तक टच भी नहीं करना है. यदि पाइप बिछाने के दौरान पिच उखड़ता है या सड़क खराब होती है तो उसका जिम्मेदारी केवल उसी विभाग की होती है जिस विभाग से कार्य करवाया जाता है अर्थात पी एच डी गलत तरीके से कार्य कर रही है.

क्या कहते हैं पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता

चतरा पथ प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता उमेश प्रसाद से पूछे जाने पर कहा कि हमारे सड़क के पिच तो दूर हमारे विभाग द्वारा भरे गए फ्लाइन्क से एक फिट दूरी पर पाईप डालना है और यदि पी एच डी द्वारा पिच के किनारे पाईप डाला जा रहा है तो गलत है. इसकी जांच कर कार्य करा रहे संवेदक पर कार्रवाई की जा सकती है तथा इसकी जानकारी अभी तक पी एच डी विभाग ने मुझे नहीं दी है.

ग्रामीणों ने उपायुक्त से सड़क पर डाले गए मिट्टी को संवेदक से हटवाने की मांग की है

प्रखंड के ग्रामीणों ने उपायुक्त चतरा से संवेदक द्वारा पिच पर मिट्टी को हटवाने की मांग उपायुक्त महोदय से की है. ग्रामीणों ने बताया कि जिस तरह संवेदक ने सड़क पर मिट्टी डाल दिया है उससे दुर्घटना की संभावना  है.

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

add44