BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

तत्काल टिकट से रेलवे मालामाल, 4 साल में कमाए 25,000 करोड़

2004 में तत्काल टिकट बुकिंग सेवा का विस्तार पूरे देश में किया गया

33

भारतीय रेलवे के लिए तत्काल टिकट बुकिंग फायदे का सौदा साबित हो रहा है। दरअसल तत्काल टिकट बुक कराने वाले यात्रियों से रेलवे ने गत चार साल में 25,392 करोड़ रुपए की कमाई की है। तत्काल टिकट बुकिंग सेवा 1997 में चुनिंदा रेलगाड़ियों में शुरू की गई थी। इसका मकसद अचानक यात्रा करने वाले यात्रियों को सुविधा देना था। 2004 में तत्काल टिकट बुकिंग सेवा का विस्तार पूरे देश में किया गया।

bhagwati

तत्काल टिकट के तहत द्वितीय श्रेणी में मूल किराए से 10 फीसदी अतिरिक्त वसूला जाता है जबकि बाकी अन्य श्रेणियों में यह राशि मूल किराए की 30 फीसदी है। हालांकि इस शुल्क में भी न्यूनतम और अधिकतम सीमा तय की गई है। प्रीमियम तत्काल सेवा 2014 में शुरू की गई थी और 50 फीसदी तत्काल कोटे की सीटों की बुकिंग इसके तहत डायनेमिक किराया प्रणाली (सीट उपलब्धता के आधार पर कीमत) से होती है।

जो 2017-18 में बढ़कर 6,952 करोड़ रुपए के स्तर पर पहुंच गया। रेलवे के मुताबिक तत्काल योजना अभी 2,677 रेलगाड़ियों में लागू है और कुल 11.57 सीटों में 1.71 लाख सीटों पर बुकिंग तत्काल कोटे के तहत होती है।

shaktiman

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

yatra
add44