BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

भावुक हुए रवि किशन ने कहा मेरे पिता मेरे गुरु भी थे और भगवान भी

भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार और गोरखपुर के भाजपा सांसद रवि किशन के पिता का निधन मंगलवार देर रात हो गया था. रवि किशन के पिता श्याम नारायण शुक्ल ने वाराणसी में अंतिम सांस ली. वे 92 साल के थे. बुधवार दोपहर को उनका अंतिम संस्कार मणिकर्णिका घाट पर किया गया. पिता की अंतिम विदाई के दौरान अभिनेता भावुक हो गए.

रवि किशन ने कहा- ‘यही हमारी दुनिया थे, आज वे साथ नहीं हैं. मेरा कोई गुरु नहीं था. न ही मैंने भगवान को देखा है. आध्यात्म से लेकर जीवन जीना पिता जी ने ही मुझे सिखाया. वो मेरे गुरु भी थे और भगवान भी. आज मैं बहुत अकेला हो गया हूं. वो दो महीने से बीमार भी थे. आज मेरे सर से बड़ा साया चला गया. 31 तारीख हर साल आएगा लेकिन शब्दों में नहीं बता सकता कि मैंने क्या खो दिया.’

bnn_add

पिछले कई महीनों से मुंबई में उनका इलाज चल रहा था. हालांकि तबीयत में सुधार नहीं होता देख उन्होंने वाराणसी में अपना शरीर त्यागने की इच्छा जताई थी. ऐसे में 15 दिन पहले वे वाराणसी लाए गए थे. गोरखपुर सदर सांसद ने अपने जीवन में पिता को ही अपना गुरु माना. इसके अलावा उन्होंने किसी को अपना गुरु नहीं माना.

रवि किशन का जन्म मुंबई के सांताक्रूज इलाके में एक छोटी सी चाल में हुआ था लेकिन वे मूल रुप से जौनपुर के रहने वाले हैं. उनके पिता पंडित श्याम नारायण शुक्ला मुंबई में पुरोहित थे और उनका डेयरी का छोटा सा बिजनेस था. रवि किशन जब 10 साल के थे तब उनके पिता का उनके चाचा के साथ विवाद हो गया और कारोबार बंद कर दोनों को जौनपुर लौटना पड़ा. रवि किशन यहां करीब सात साल तक रहे लेकिन पढ़ाई में उनका मन नहीं लगता था. उन्हें मुंबई की याद आती थी.

रवि किशन जब मुंबई आए तो उनके पास इतना पैसा नहीं था कि वे बस का टिकट खरीद सकें. वह अक्सर पैसे बचाने के लिए पैदल ही आते-जाते थे. ज्यादातर समय वह वड़ापाव खाकर दिन गुजारते थे. करीब एक साल तक संघर्ष करने के बाद उन्हें फिल्म ‘पीताबंर’ में काम करने का मौका मिला. रवि किशन ने एक साक्षात्कार में बताया था कि उनकी इस सफलता में उनके पिता का बहुत बड़ा योगदान था. उनके पिता श्याम नारायण शुक्ला का मानना था कि रवि किशन का जन्म ईश्वर के आशीर्वाद से हुआ है. रवि किशन ने बताया था कि पिता जी अक्सर उनकी पिटाई कर देते थे लेकिन वह हमेशा उनसे प्यार करते थे.

 


बीएनएन भारत बनीं लोगों की पहली पसंद

न्यूज वेबपोर्टल बीएनएन भारत लोगों की पहली पसंद बन गई है. इसका पाठक वर्ग देश ही नहीं विदेशों में भी हैं. खबर प्रकाशित होने के बाद पाठकों के लगातार फोन आ रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान कई लोग अपना दुखड़ा भी सुना रहे हैं. हम लोगों को हर संभव सहायता करने का प्रयास कर रहें है. देश-विदेश की खबरों की तुरंत जानकारी के लिए आप भी पढ़ते रहें bnnbharat.com


  • क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हमें लाइक(Like)/फॉलो(Follow) करें फेसबुक(Facebook) - ट्विटर(Twitter) - पर. साथ ही हमारे ख़बरों को शेयर करे.

  • आप अपना सुझाव हमें [email protected] पर भेज सकते हैं.

बीएनएन भारत की अपील कोरोनावायरस पूरे विश्व में महामारी का रूप ले चुकी है. सरकार ने इससे बचाव के लिए कम से कम लोगों से मिलने, भीड़ वाली जगहों में नहीं जाने, घरों में ही रहने का निर्देश दिया है. बीएनएन भारत का लोगों से आग्रह है कि सरकार के इन निर्देशों का सख्ती से पालन करें. कोरोनावायरस मुक्त झारखंड और भारत बनाने में अपना सहयोग दें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

gov add

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. AcceptRead More