BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

सांसद संजय सेठ के सवाल पर केंद्रीय मंत्री का जवाब, कहा किडनी रोगियों के लिए 474 जिलों में 8244 डायलिसिस मशीनें लगी

सांसद संजय सेठ के सवाल पर केंद्रीय मंत्री का जवाब, कहा किडनी रोगियों के लिए 474 जिलों में 8244 डायलिसिस मशीनें लगी

रांची: भारत में बढ़ती किडनी रोगियों की संख्या व उनके समुचित इलाज के लिए केंद्र सरकार गंभीर है. सरकार ने गंभीरता दिखाते हुए अब तक राज्यों के सहयोग से 474 जिलों में 8244 डायलिसिस मशीनें लगवाई है. आगे भी इस समस्या पर विस्तारित रूप से काम करने की योजना है. इस बात की जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्द्धन ने दी. डॉ. हर्षवर्द्धन रांची के सांसद संजय सेठ के द्वारा पूछे गए सवालों के जवाब दे रहे थे.

जवाब में उन्होंने सदन को बताया कि भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) द्वारा सूचित किया गया है कि ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज – इंडिया स्टडी के अनुसार, 1990 से 2016 के बीच क्रोनिक किडनी रोग से संबंधित विकलांगता समायोजित जीवन वर्ष (DALY) में 12% की वृद्धि हुई है. हालांकि, यह अनुमान लगाया जाता है कि मधुमेह और उच्च रक्तचाप के मामलों में वृद्धि के साथ-साथ गुर्दे की बीमारियों के बारे में जागरूकता बढ़ने से अस्पतालों में अधिक मामले सामने आ रहे हैं.

bnn_add

ICMR ने दिल्ली, जयपुर, हैदराबाद, भुवनेश्वर, कोलकाता, गुवाहाटी और मुंबई के केंद्रों के साथ भारतीय जनसंख्या में CKD का व्यापक अध्ययन किया. डेटा का प्रारंभिक रुझान पहले सीकेडी के सामुदायिक प्रसार का संकेत देता है.

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री राष्ट्रीय डायलिसिस कार्यक्रम (पीएमएनडीपी) के तहत, राज्य सरकारों को एनयूएम के लिए डायलिसिस सेवाएं मुफ्त प्रदान करने के लिए समर्थन किया जाता है. इस तरह का समर्थन राज्यों से उनके वार्षिक कार्यक्रम कार्यान्वयन योजनाओं (पीआईपी) में प्राप्त प्रस्तावों पर आधारित है, कुल 474 जिलों में 8244 मशीनों के साथ कवर किया गया है, जिसमें 5014 मशीनें हैं. इनमें पीएमएनडीपी के तहत 62.88 लाख हेमोडायसिसिस सत्रों के प्रदर्शन की संयुक्त क्षमता है.

पीएमएनडीपी के तहत पेरिटोनियल डायलिसिस सेवाओं को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा भी जारी किया गया है और झारखंड सहित सभी राज्यों के केंद्र शासित प्रदेशों को अपने प्रोजेक्ट कार्यान्वयन योजना (पीआईपी) में पेरिटोनियल डायलिसिस के लिए प्रस्ताव भेजने का अनुरोध किया गया है.

 


बीएनएन भारत बनीं लोगों की पहली पसंद

न्यूज वेबपोर्टल बीएनएन भारत लोगों की पहली पसंद बन गई है. इसका पाठक वर्ग देश ही नहीं विदेशों में भी हैं. खबर प्रकाशित होने के बाद पाठकों के लगातार फोन आ रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान कई लोग अपना दुखड़ा भी सुना रहे हैं. हम लोगों को हर संभव सहायता करने का प्रयास कर रहें है. देश-विदेश की खबरों की तुरंत जानकारी के लिए आप भी पढ़ते रहें bnnbharat.com


  • क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हमें लाइक(Like)/फॉलो(Follow) करें फेसबुक(Facebook) - ट्विटर(Twitter) - पर. साथ ही हमारे ख़बरों को शेयर करे.

  • आप अपना सुझाव हमें [email protected] पर भेज सकते हैं.

बीएनएन भारत की अपील कोरोनावायरस पूरे विश्व में महामारी का रूप ले चुकी है. सरकार ने इससे बचाव के लिए कम से कम लोगों से मिलने, भीड़ वाली जगहों में नहीं जाने, घरों में ही रहने का निर्देश दिया है. बीएनएन भारत का लोगों से आग्रह है कि सरकार के इन निर्देशों का सख्ती से पालन करें. कोरोनावायरस मुक्त झारखंड और भारत बनाने में अपना सहयोग दें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

gov add