SACH KE SATH
add_doc_3
add_doctor

निजी स्कूलों में कार्यरत लाखों शिक्षकों व शिक्षकेत्तर कर्मियों की परेशानियां अब दूर हो-आलोक दूबे

रांची:- पासवा के झारखंड इकाई के अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने कहा कि कोरोना संक्रमणकाल में सबसे अधिक बच्चों का पठन-पाठन प्रभावित हुआ है, लेकिन अब कोरोना टीका बाजार में आ चुका है और स्थिति धीरे-धीरे सामान्य हो रही है. ऐसे में निजी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों, उनके अभिभावकों और निजी स्कूल में कार्यरत लाखों शिक्षक तथा शिक्षकेत्तर कर्मियों की परेशानियों की ओर से भी सरकार को ध्यान देना चाहिए.

पासवा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि लॉकडाउन अवधि में निजी स्कूलों की ओर से सिर्फ ट्यूशन शुल्क ही लिया गया और अभिभावकों को बड़ी राहत दी गयी. लेकिन अब समय आ गया है कि सरकार निजी स्कूलों की समस्याओं के समाधान की दिशा में ध्यान दें. उन्होंने कहा कि सोशल डिस्टेसिंग और अन्य दिशा-निर्देशों के तहत 8वीं कक्षा से नीचे की अन्य कक्षाओं के बच्चों के लिए ऑफलाइन पढ़ाई शुरू करनी चाहिए.

आलोक कुमार दूबे ने कहा कि निजी स्कूल आज भी शहरों और आसपास के ग्रामीण इलाकों के लिए रीढ़ की हड्डी के सामान है, इन्हीं स्कूलों के प्रयास से स्कूली शिक्षा को गुणवत्ता को बेहतर बनाने में मदद मिली है,ऐसे में यह जरूरी है कि निजी स्कूल के संचालकों, शिक्षकों और वहां कार्यरत लाखों शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की आर्थिक संकट को भी दूर करने के लिए अभिभावकों से ट्यूशन फीस के अलावा अन्य शुल्क लेने की अनुमति अब बिना विलंब किये प्रदान किया जाए.