SACH KE SATH

विकास भारतीय कार्यालय में नेताजी को दी गयी श्रद्धांजलि

रांची:- आरोग्य भवन स्थित विकास भारती बिशुनपुर के स्थानीय केन्द्र पर आयोजित नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की 125वीं जयंती, पराक्रम दिवस के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संस्था के सचिव पद्मश्री अशोक भगत ने कहा कि सुभाष बाबू युवाओं के प्रेरणा श्रोत हैं. उन्होंने भारतीय स्वातंत्र समर में न केवल महती भूमिका निभाई अपितु अंग्रेजों को भारत छोड़ने के विवस कर दिया. 

श्री भगत ने कहा कि वे देश के प्रभावशाली नेता और उस समय के ओजस्वी वक्ता थे. इन्हीं गुणों के कारण उन्होंने महात्मा गांधी के द्वारा प्रस्तुत प्रत्याशी पट्टाभी सीतारमैया को हरा कर कांग्रेस का अध्यक्ष पद प्राप्त किया. सुभाष बाबू इतने बड़े त्यागी थे कि उन्होंने युवावस्था में आईसीएस की नौकरी छोड़ी साथ ही गांधी से मदभेद के कारण कांग्रेस का अध्यक्ष पद भी त्याग दिया. नेताजी ने अंग्रेजों को सैन्य शक्ति से पराभूत करने के लिए आजाद हिन्द फौज का नेतृत्व किया. इसके साथ ही साथ वे पूर्वोत्तर में अंग्रेजों के नेतृत्व वाली फौज पर हमला भी बोल दिया. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में सुभाष बाबू का अभिनव योगदान है. श्री भगत ने कहा कि हम और हमारी संस्था लम्बे समय से नेताजी की जयंती को सौर्य दिवस के रूप में बनाते रहे हैं. संस्था के सचिव अशोक भगत ने कहा कि हमारी लड़ाई आज भी जारी है. हम सुभाष बाबू के पदचिंहों पर चलने वालों में से हैं. आज हमलोग झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में सुदूरवर्ती जंगलों में शिक्षा का अलख जगा रहे हैं. 

कार्यक्रम के दौरान गुमला जिला के बसिया प्रखंड के फरसमा गांव के शहीद विमल सोरेंग, जो पुलबामा घाटी में शहीद हुए थे की पत्नी कर्मिला सोरेंग एवं 16 जून 2020 को गलवान घाटी में शहीद हुए बहरागोड़ा प्रखंड के कसाफलिया निवासी शहीद गणेश हांसदा के पिता सुबदा हांसदा को पद्मश्री डॉ. अशोक भगत द्वारा सम्मानित किया गया. 

इस अवसर पर चित्रांकन एवं भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया. भाषण प्रतियोगिता में  सुषमा उरांव, स्वेता उरांव और पूजा यादव क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहीं. उसी प्रकार चित्रांकन प्रतियोगिता में आकाश गुप्ता, सीमा कुमारी और रीया कुमारी ने प्रथम, द्वितीय एवं तृतीय स्थान पर रहीं. इन प्रतिभागियों को संस्था के सचिव पद्मश्री अशोक भगत ने संस्था की ओर से स्मृति चिंह देकर सम्मानित किया. इस मौके पर एनसीसी कैडेट पवन कुमार, राजकिशोर कुमार भोक्ता, कुलदीप कुमार महतो, संदीप कुमार एवं नितीक्षा महतो को भी अतिथियों द्वारा विशेष सम्मान से नवाजा गया. कार्यक्रम में राम टहल अभियंत्रण महाविद्यालय के निदेशक   पारस नाथ महतो, एनसीसी के सेवानिवृत कैप्टन रंजीत सिंह, खाद्य सुरक्षा आयोग की सदस्या  रंजना चौधरी एवं जनजातीय शोध संस्थान के निदेशक डॉ. प्रदीप मुंडा उपस्थित रहे. 

कार्यक्रम का संचालन जन शिक्षण संस्थान के प्रभारी निदेशक निखिलेश मैती ने किया तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ. प्रदीप मुंडा जी के द्वारा किया गया. यह कार्यक्रम जन शिक्षण संस्थान विकास भारती द्वारा किया गया था. कार्यक्रम में संस्थान के प्रशिक्षु एवं कार्यकर्त्तागण उपस्थित थे.