SACH KE SATH

अनूठा तोहफा: हामिश ने ढाई घंटे में बनाया नेताजी का स्केच

अहमदाबाद: नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर सूरत के एक बाल कलाकार ने महज ढाई घंटे में नेताजी का सटीक स्केच बनाकर एक अनूठा तोहफा दिया है. 12 साल का हामिश लॉकडाउन में टीवी जैसे उपकरणों से दूर रहकर अन्य बच्चों के लिए मिसाल बन गया है. पिछले 4 वर्षों से कई खिलाड़ियों, भगवान और स्वामी विवेकानंद के साथ अब सुभाष चंद्र बोस का स्केच बनाने वाले हामिश प्रधानमंत्री मोदी को अपना आदर्श गुरु मानते हैं.

12 वर्षीय हामिश चेतनभाई मेहता अपने माता-पिता के साथ घोडदोड़ रोड पर पंचोली सोसाइटी में रहते हैं और 6ठी में पढ़ते हैं. पिता कंप्यूटर व्यवसाय से जुड़े हैं जबकि मां कॉलेज में प्रोफेसर हैं. हामिश ने कहा, “मैं 4 साल से स्केच बना रहा हूं, मम्मी का प्रोत्साहन हर स्केच को आसान बनाता है.” गूगल पर बच्चों को स्केच बनाते हुए देखने के लिए उत्साह पैदा हुआ. कोरोना काल में लॉकडाउन के दौरान मोबाइल और टीवी आदि से दूर रहकर स्केच बनाना सीखा .

हामिश ने कहा कि किसी भी स्केच को तैयार करने में कम से कम ढाई घंटे लगते हैं. नेताजी सुभाष चंद्र बोस का सटीक स्केच हाल ही में तैयार किया गया है. आज देश के लोकप्रिय नेता सुभाष चंद्र बोस का जन्मदिन है. हामिश द्वारा अब तक बनाए गए स्केच में विश्व प्रसिद्ध फुटबॉलर मैसी, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर विराट कोहली, वर्तमान में पत्रकार अर्नब गोस्वामी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस, स्वामी विवेकानंद, महादेव, गणेशजी, बाल कृष्ण और कई अन्य शामिल हैं.

हामिश का कहना है, “मैं अपने जैसे सभी बच्चों और छात्रों को एक ही संदेश देना चाहता हूं ​​कि खाली समय में मोबाइल और टीवी जैसे व्यर्थ के उपकरणों के साथ समय बिताने की बजाय ड्राइंग जैसी अच्छी गतिविधि में रुचि लेना निश्चित रूप से एक मंच है. यदि और कुछ नहीं तो मंच आपकी पहचान हो सकती है, इसलिए इलेक्ट्रॉनिक्स उपकरणों से दूर रहना न भूलें.”

लॉकडाउन के दौरान हामिश ने कई गण्यमान्य व्यक्तियों, खिलाड़ियों, स्पाइडर मैन और देवताओं के स्केच बनाए हैं. माता-पिता, बहन और दादी भी हामिश के रेखाचित्र बनाने की कला को लेकर बहुत उत्साहित हैं. हामिश न केवल एक स्केच बनाते हैं, बल्कि एक अच्छा शतरंज खिलाड़ी होने के साथ ही वह शतरंज चैंपियन विश्वनाथ आनंद के करीबी भी हैं. हामिश अपनी इस सफलता का श्रेय स्कूल-ट्यूशन टीचर और खासकर मां को देते हैं.