BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

तो इस कारण से हुई प्रेम सागर मुंडा की हत्या, जानिये पूरा मामला

100 करोड़ की लेवि को लेकर हुआ विवाद

रांची: सोमवार शाम करीब 7 बजे दो बाइक सवार अपराधियों ने बरियातू थाना क्षेत्र अंतर्गत होटल पार्क प्राइम के नजदीक प्रेम सागर मुंडा को गोलियों से छलनी कर फरार हो गए. प्रेम सागर मुंडा को रिम्स ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने प्रेम सागर को मृत घोषित कर दिया, अपराधियों ने प्रेम सागर को छह गोलियां मारी.

जानकारी के अनुसार टीएसपीसी उनसे लेवी के सौ करोड़ रुपये का हिसाब मांग रहा था. प्रेम का भाई  बबलू सागर मुंडा यह पैसा लेकर फरार है. प्रारंभिक जांच में हत्या की वजह लेवी के पैसे के विवाद के अलावा एदलहातू की एक बेशकीमती जमीन का विवाद भी बताया जा रहा है. प्रेम सीसीएल में काम करता था और राज्य के एक पूर्व सीएम का करीबी भी थ. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) उनकी संपत्ति की जांच कर रही ह. घटना की जानकारी मिलने के बाद घटनास्थल पर एसएसपी अनीश गुप्ता, तीन डीएसपी सहित कई थानों के थानेदार मौके पर पहुंच. हत्यारों की तलाश में छापेमारी शुरू हो गई ह. जांच के लिए दो एसपी व पांच डीएसपी को लगा दिया गया ह.

चार दिन पहले जेल से आया था बाहर

पुलिस सूत्रों के अनुसार प्रेम सागर मुंडा टीएसपीसी के लिए लेवी वसूलने का भी काम करता थ. इसी मामले में वह जेल गया थ. चार दिन पहले ही जमानत पर वह बाहर आया थ. पुलिस को सूचना है कि प्रेम सागर मुंडा का भाई बबलू मुंडा टीएसपीसी उग्रवादी संगठन का सौ करोड़ रुपया लेकर फरार हो गया ह. इसके बाद से ही टीएसपीसी रुपयों को लेकर प्रेम सागर मुंडा पर दबाव बना रहा थ. प्रेम सागर का भाई बबलू टंडवा प्रखंड का उप प्रमुख ह.

जांच एजेंसी खंगाल रही थी संपत्ति

प्रेम सागर मुंडा के खिलाफ एनआइए भी जांच में जुटी थ.  टेरर फंडिंग के मामले में चतरा के पिपरवार (कांड संख्या 36-19) में प्रेम सागर मुंडा समेत 77 आरोपियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी. एनआइए सभी आरोपितों की चल-अचल संपत्ति को खंगालने में जुटी ह. बताया गया है कि प्रेम ने रांची स्थित मोरहाबादी, कांके सहित कई इलाके में संपत्ति खरीदी थ. टीएसपीसी (तृतीय सम्मेलन प्रस्तुति कमेटी) से जुड़े प्रेम सागर मुंडा के खिलाफ एनआइए के साथ-साथ पुलिस भी जांच में जुटी थ. प्रेम के खिलाफ टंडवा थाना में (कांड संख्या 222-18) भी मामला दर्ज ह.

सीसीएल का कर्मी था प्रेम सागर मुंडा

पुलिस सूत्रों के अनुसार प्रेम मूल रूप से पिपरवार के बिलारी गांव का रहने वाला था. प्रेमसागर को वर्ष 1995 में जमीन देने के बदले सीसीएल में नौकरी हुई थी. वर्तमान में वह बचरा परियोजना में पंप ऑपरेटर के पद पर तैनात थ. राय कोलियरी खदान में उसकी पोस्टिंग थ. प्रेम सागर के चार बच्चे हैं. उनकी पत्नी का नाम सरीता देवी है. प्रेम सागर का वर्तमान में एक घर बसंत बिहार कॉलोनी बचरा में भी ह. वहीं वह मोरहाबादी स्थित किंग सफायर अपार्टमेंट में पूरे परिवार के साथ रहता थ. वह एससी-एसटी इम्पलाइज यूनियन का अध्यक्ष होने के साथ विस्थापितों का नेता भी थ. इस बात की चर्चा है कि प्रेम सागर मुंडा का टीपीसी से विवाद चल रहा था.चतरा में पे्रम सागर मुंडा पर उग्रवादी संगठन के लिए लेवी वसूलने समेत कई मामले दर्ज हैं. मिली जानकारी के अनुसार प्रेम सागर मुंडा चतरा की विभिन्न कोल परियोजनाओं में सीसीएल के कर्मी और कोल परियोजना के सेल्स इंचार्ज विस्थापन समिति और कोल फील्ड लोडर एसोसिएशन के नाम पर उग्रवादी संगठन टीपीसी के लिए लेवी की वसूली करने का भी काम करता था.

bnn_add

कैसे हुई हत्या

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक सोमवार की शाम करीब सात बजे के आसपास प्रेम सागर मुंडा अपनी फॉच्र्यूनर (जेएच01बीटी-0009) से मोरहाबादी स्थित पार्क प्राइम होटल के पास रुका हुआ थ. इसी दौरान बाइक सवार दो अपराधियों ने प्रेम सागर मुंडा से कुछ बात की और उस पर गोलियां दाग दी. उस पर नाइन एमएम की पिस्टल से ताबड़तोड़ छह गोलियां बरसाई गईं. एक गोली सिर में व शेष शरीर के अन्य हिस्सों में लगी. गोली मारने के बाद अपराधी मौके से एदलहातू के रास्ते फरार हो गए. घटना के बाद स्थानीय लोगों की मदद से आनन-फानन में प्रेम सागर मुंडा को रिम्स ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

Also Read This:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छोड़ सकते है सोशल मीडिया, ट्वीट कर दी जानकारी

टेरर फंडिंग मामले में प्रेम सागर मुंडा सहित 77 लोगों के खिलाफ पिपरवार थाना में नामजद प्राथमिकी दर्ज की गयी है

(1 ) ब्रजेश गंझू उर्फ गोपाल सिंह भोक्ता (2) भीखन गंझू ( 3) आक्रमण (4 )आदेश गंझू ( 5) आजाद (6) सौरभ उर्फ शौरभ गंझू (7) मुकेश गंझू (8) बबलू, (9) जानकी महतो, (10) कयूम अंसारी (11) मिन्ना मियां (12) अस्लाम मियां 13 प्रकाश मुंडा (14) बिनोद महतो (15) बिजय महतो (16) गबर महतो (17) बालेश्वर उरांव, (18) दिनेश भगत (19) कैलाश करमाली (20) शिव प्रकाश प्रजापति (21) दर्शन गंझू (22) अवध ठाकुर (23) तालेश्वर उरांव, (24) देवनारायण गंझू (25) प्रेम सागर मुंडा (26) रत्न महतो (27) वासुदेव (28) विकाश मुंडा (29) नागेश्वर गंझू (30) अर्जुन गंझू (31) धनेश्वर गंझू, (32) सुरेश गंझू (33) देवलाल गंझू (34) सुखी गझू (35) फागु गंझू (36) सुरेंद्र गंझू (37) रूपेश गंझू (38) माधो गंझू (39) सुरेश गंझू (40) महेंद्र गंझू (41) मोहन गंझू (42) मोहम्मद ताज (43) रोहन गंझू (44) सन्तोष केशरी (45) दिलीप गंझू (46) जयराम भुइयां (47) बिनय खालको (48) नरेश गंझू (49) राजेन्द्र उरांव,(50) बिनय उरांव (51) परमेश्वर गंझू (52) मुद्रिका गंझू (53) बालेश्वर उरांव (54) रामदयाल उरांव (55) बिगन भोक्ता (56) धनराज भोक्ता उर्फ मिठू (57) आशिक अली उर्फ बढ़ो मियां (58) बन्दे उरांव (59) कीनू राणा (60) फूलचंद भगत (61) एजाजुल (62) बिसुन देव (63) प्रेम गंझू (64) सुरेंद्र राम (65) जुगेश (66) अनिल चौबे (67) दीपक कुमार (68) नागेंद्र पाण्डे (69) गणेश (70) टी.सिंह ( 71 ) एस.के. सिंह (72) सेवा सिंह (73) टिकेश्वर महतो (74) के.के. सिंह (75) बिनय सिंह (76) महेश

Also Read This:-श्वेत पत्र से संकटग्रस्त अर्थव्यवस्था सामने आयी : कांग्रेस

Also Read This:-



  • क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हमें लाइक(Like)/फॉलो(Follow) करें फेसबुक(Facebook) - ट्विटर(Twitter) - पर. साथ ही हमारे ख़बरों को शेयर करे.

  • आप अपना सुझाव हमें [email protected] पर भेज सकते हैं.

बीएनएन भारत की अपील कोरोनावायरस महामारी का रूप ले चुका है. सरकार ने इससे बचाव के लिए कम से कम लोगों से मिलने, भीड़ वाले जगहों में नहीं जान, घरों में ही रहने का निर्देश दिया है. बीएनएन भारत का लोगों से आग्रह है कि सरकार के इन निर्देशों का सख्ती से पालन करें. कोरोनावायरस मुक्त झारखंड और भारत बनाने में अपना सहयोग दें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

gov add