BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

किसानों पर कर्ज 7000 करोड़, ऋण माफी का बजट 2000 करोड़, कैसे रुकेगी किसानों की आत्महत्या

किसानों पर कर्ज 7000 करोड़, ऋण माफी का बजट 2000 करोड़, कैसे रुकेगी किसानों की आत्महत्या

खास बातें:-

  • किसानों के ऋण माफी की बातें खोखली, बजट के बावजूद किसानों पर 3000 करोड़ का कर्ज रहेगा.
  • धान बेचते ही किसानों को 7 दिन में पैसों के भुगतान का दावा, पर 41 दिनों बाद भी कोई भुगतान नहीं.
  • आर्थिक तंगी से किसान कर रहे हैं आत्महत्या.

रांची: वर्तमान सरकार ने 2020-2021 के बजट में किसानों के ऋण माफी के लिए 2000 करोड़ की स्वीकृति दी है. विधायक सुदेश महतो की माने तो झारखंड के किसानों का कुल ऋण लगभग 7000 करोड़ रुपये है, जबकि मौजूदा बजट सिर्फ 2000 करोड़ का प्रावधान है. ऐसे में वर्तमान सरकार का यह बजट सिर्फ एक छलावा है, यहां मतलब साफ है कि 3000 किसानों को अभी कर्ज में दबे रहना होगा या फिर उन्हें भी सुसाइड का सहारा लेना होगा, क्योंकि सरकार तो मदद करने से बजट में ही पीछे हट गई.

किसानों को हफ्तों बाद भी नहीं मिलता भुगतान

झारखंड स्टेट फ़ूड एंड सिबिल सप्लाइज कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा लैम्प्स के जरिये किसानों के धान की खरीद की गई और तुरंत बाद रसीद के साथ मोबाइल पर SMS मिलता है कि 7 दिनों में आपका भुगतान कर दिया जाएगा.

bnn_add

लेकिन कई हफ्ते बीत जाने के बाद भी किसानों के पैसे का भुगतान नहीं हो सका है. किसान रसीद लेकर भटक रहे हैं. अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है.

 

आर्थिक तंगी से परेशान किसान कर रहे हैं आत्महत्या

दिनांक 18 फरवरी 2020 को BNN BHARAT ने एक खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी , जिसपर वर्तमान कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने संज्ञान लेते हुए अविलम्ब जांच दिए थे. जिसमें गढ़वा के बसिया के एक किसान ने सुसाइड नोट (“मैं एक किसान हूं आर्थिक तंगी से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं”) लिख कर ट्रेन से कटकर आत्महत्या कर ली थी, बाद में रिपोर्ट में बताया गया की किसान पर कोई कर्ज नहीं था इसलिए यह आत्महत्या आर्थिक तंगी से नहीं की गई है.


यह दुर्भाग्यपूर्ण है की सरकार सिर्फ झूठे दावे करती है, ऋण माफी की बात सिर्फ बजट तक ही सीमित है. किसानों के लिए शुरू की गई योजनाएं किसानों तक पहुंच ही नहीं पाती है तो क्यों न करें किसान आत्महत्या.

Also Read This:-“मैं एक किसान हूं आर्थिक तंगी से तंग आकर आत्महत्या कर रहा हूं”

 


बीएनएन भारत बनीं लोगों की पहली पसंद

न्यूज वेबपोर्टल बीएनएन भारत लोगों की पहली पसंद बन गई है. इसका पाठक वर्ग देश ही नहीं विदेशों में भी हैं. खबर प्रकाशित होने के बाद पाठकों के लगातार फोन आ रहे हैं. लॉकडाउन के दौरान कई लोग अपना दुखड़ा भी सुना रहे हैं. हम लोगों को हर संभव सहायता करने का प्रयास कर रहें है. देश-विदेश की खबरों की तुरंत जानकारी के लिए आप भी पढ़ते रहें bnnbharat.com


  • क्या आपको ये रिपोर्ट पसंद आई? हमें लाइक(Like)/फॉलो(Follow) करें फेसबुक(Facebook) - ट्विटर(Twitter) - पर. साथ ही हमारे ख़बरों को शेयर करे.

  • आप अपना सुझाव हमें [email protected] पर भेज सकते हैं.

बीएनएन भारत की अपील कोरोनावायरस पूरे विश्व में महामारी का रूप ले चुकी है. सरकार ने इससे बचाव के लिए कम से कम लोगों से मिलने, भीड़ वाली जगहों में नहीं जाने, घरों में ही रहने का निर्देश दिया है. बीएनएन भारत का लोगों से आग्रह है कि सरकार के इन निर्देशों का सख्ती से पालन करें. कोरोनावायरस मुक्त झारखंड और भारत बनाने में अपना सहयोग दें.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

gov add