BNNBHARAT NEWS
Sach Ke Sath

शाह फैसल पर कश्मीर में लिया गया एक्शन

महबूबा-उमर के बाद फैसल पर PSA के तहत मुकदमा दर्ज

522

नयी दिल्लीः  सुलगता कश्मीर को शांत कश्मीर बनाने के लिए के लिए केंद्र की सरकार और कश्मीर की प्रशासन ने कोई कसर बाकि नहीं रखी है.

पढ़ेंः कश्मीर पर फिर मिला पाक को झटका

लेकिन अलगाववादि नेता अपनी दुकान बंद होती देख कश्मीर को अशांत करने की भरसक कोशिश में जुटें हैं . 5 अगस्त को अनुच्छेद 370 के खात्मे के बाद.

कई एसे लोगों को हिरासत में लिया गया जिनसे कश्मीर की शांति को खतरा था . इसी क्रम में पहले महबूबा, उमर और अब 2010 बैच के IAS  रह चुके शाह फैसल पर जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट (PSA) लगाया गया है.

पढ़ेंः अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद कहीं भी कर्फ्यू नहीं, जम्मू-कश्मीर में है शांति : अमित शाह

शाह फैसल पर प्रशासन ने PSA के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. IAS की नौकरी छोड़कर राजनीति में आने वाले शाह फैसल जम्मू एंड कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट (JKPM) के अध्यक्ष हैं.

बताते चलें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के बाद शाह फैसल को पिछले साल 14 अगस्त को सीआरपीसी की धारा 107 के तहत हिरासत में लिया गया था. बाद में उन्हें कस्टडी में लेकर एमएलए हॉस्टल में रखा गया था.

bhagwati

पढ़ेंः अनुच्छेद 370: फैसले के खिलाफ अक्टूबर में होगी संवैधानिक वैधता की समीक्षा 

अभी ये तय नहीं है कि शाह फैसल को उनके घर में शिफ्ट किया जाएगा अथवा एमएलए हॉस्टल में ही रखा जाएगा. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के बाद प्रशासन ने हाल ही में राज्य के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला.

पढ़ेंः कश्मीर में RSS सदस्यों की तैनाती की तैयारी कर रही भाजपा : पाकिस्तानी विदेश मंत्री

पीडीपी नेता और पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती, अली मोहम्मद सागर, सरताज मदनी, हिलाल लोन और नईम अख्तर पर भी पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है.

पब्लिक सिक्योरिटी एक्ट जम्मू कश्मीर का एक विशेष कानून है. इसे 1978 में फारूक अब्दुल्ला के पिता शेख अब्दुल्ला ने लागू किया था.

पढ़ेंः चीन ने दिखाई चालाकी, UNSC में आज सुबह 10 बजे बंद कमरे में कश्मीर पर होगी चर्चा

ये कानून किसी भी शख्स को एहतियान हिरासत में लेने से जुड़ा है. इस कानून के प्रावधानों के मुताबिक राज्य सरकार किसी भी व्यक्ति के खिलाफ बिना केस चलाए उसे दो साल तक जेल में रख सकती है.

कहा जा सकता है कि ये कानून देश के दूसरे हिस्सों में लागू राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) जैसा है, लेकिन देश में NSA लागू होने से दो साल पहले ही जम्मू कश्मीर में PSA लागू हो चुका था.

 

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

add44
trade_fare