BNNBHARAT NEWS
Sach Ke Sath

निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान नकदी लेन-देन से बचें, ज्यादा नकद लेकर आवागमन नहीं करने की सलाह : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी

432

खास बातें:-

वाहन से 50 हजार रुपए से ज्यादा नकद या मतदाताओं के प्रलोभन हेतु 10 हजार रुपए से ज्यादा कीमत की उपहार सामग्री की संभावना होने पर हो सकती है जब्ती, पूरी प्रक्रिया की होगी वीडियोग्राफी

वाहन से अवैध शराब, मादक पदार्थ, हथियार या गैर कानूनी वस्तुएं मिलने पर विहित प्रक्रिया के तहत होगी कार्रवाई

pandiji

रांची: विनय कुमार चौबे, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा विधानसभा चुनाव के सिलसिले में आदर्श चुनाव आचार संहिता प्रभावी है. निर्वाचन प्रक्रिया की शुचिता और पारदर्शिता बनाए रखने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन व्यय अनुवीक्षण को लेकर कई दिशा निर्देश दिए हैं, जिसका अक्षरशः पालन किया जाना है.

इसके तहत उड़नदस्ता टीम, स्थैतिक निगरानी टीम अथवा प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा यदि जांच के दौरान किसी वाहन से 50 हजार रुपए से ज्यादा नकद पाया जाता है या किसी वाहन से अवैध शराब, मादक पदार्थ, ड्रग्स या अवैध हथियार या गैर कानूनी सामान मिलता है अथवा 10 हजार रुपए से ज्यादा कीमत की ऐसी उपहार सामग्री मिलती है, जिसका इस्तेमाल मतदाताओं को प्रलोभन दिए जाने के लिए किए जाने की संभावना हो तो वह जब्त करने के शऱ्तों के अधीन होगी.

ऐसे वाहनों की जांच और उसकी जब्ती की जानकारी संबंधित व्यक्ति को दी जाएगी. इस पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी भी होगी.

Sharda_add

नकदी लेन-देन से बचने की सलाह

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा है कि निर्वाचन प्रक्रिया के दरम्यान वे नकदी लेन-देन से बचें और भारी मात्रा में नकदी लेकर आवागमन नहीं करें.

उन्होंने यह भी कहा कि आम लोगों की शिकायतों का निरारण करने के लिए हर जिले में तीन अधिकारियों की समिति बनाई गई है.

इस समिति में मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी, जिला परिषद / उप विकास आय़ुक्त, जिला निर्वाचन कार्यालय में व्यय अनुवीक्षण के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी और जिला कोषागार पदाधिकारी सदस्य होंगे. समिति ऐसे सभी मामलों का अवलोकन करेगी और जब्ती पर निर्णय लेगी.

पुलिस, उड़न दस्ता और स्थैतिक निगरानी टीम द्वारा की गई जब्ती के मामलों की जांच करेगी समिति
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि उड़नदस्ता, स्थैतिक निगरानी दल तथा प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा की गई जब्ती के प्रत्येक मामले की जांच उपरोक्त तीन सदस्यीय समिति करेगी.

समिति अगर जांच में यह पाती है कि मानक प्रचालन प्रक्रिया के अनुसार जब्ती के संबंध में कोई प्राथमिकी या शिकायत दर्ज नहीं की गई है या जहां जब्ती किसी अभ्यर्थी या राजनीतिक दल या किसी निर्वाचन अभियान आदि से जुड़ी हुई नहीं है तो वह ऐसे व्यक्तियों को, जिनकी नकदी जब्त की गई थी, उसे रिलीज करने के बारे में एक तार्किक आदेश जारी करने के पश्चात रिलीज हेतु तत्काल कदम उठाएगी.

ajmani

Get real time updates directly on you device, subscribe now.