BNN BHARAT NEWS
सच के साथ

CCL टीम को झेलना पड़ा रैयतों का भारी विरोध, धक्का-मुक्की के बाद काम छोड़ भागी टीम

507

गुड़िया सिंह/अरबाज,

चतरा: कोल उत्पादन को लेकर भूमि सर्वेक्षण कार्य करने पहुंची सीसीएल की सर्वे टीम को रैयतों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा. जिसके टीम को काम छोड़कर वापस लौटना पड़ा.

वहीं, ग्रामीणों के उग्र रुख को देखते हुए मौके से टीम में शामिल सर्वेयर भाग खड़े हुए. दरअसल, सीसीएल के आम्रपाली कोल परियोजना में कोयला उत्पादन को ले मिट्टी हटाने का काम मां अंबे और मां लक्ष्मी नामक एजेंसी संयुक्त रूप से कर रही है.

bhagwati

इसे लेकर एजेंसी के सर्वेयरों की टीम सुपरवाइजर के नेतृत्व में परियोजना से सटे कुमरांगकला गांव पहुंची थी. जिसकी सूचना संबंधित भूमि के रैयतों को मिल गई. सूचना मिलते ही गांव के दर्जनों रैयत मौके पर पहुंच गए और सर्वे का विरोध शुरू कर दिया. इस दौरान रैयतों ने सर्वे टीम को न सिर्फ भूमि का सर्वे करने से रोक दिया बल्कि बात नहीं मानने पर टीम में शामिल सर्वेयरों के साथ धक्का-मुक्की भी शुरू कर दी.

आक्रोशित रैयत सर्वे की जा रही भूमि को अपनी पुश्तैनी रैयती जमीन बताकर प्रबंधन से वार्ता करने की बात कर रहे थे. वहीं, ग्रामीणों का आरोप है कि सीसीएल प्रबंधन मां अंबे और मां लक्ष्मी एजेंसी के सहारे ग्रामीणों की भूमि हड़पने की जुगत में लगी है, जिसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

ग्रामीणों का कहना है कि जब तक उनके साथ प्रबंधन वार्ता कर उचित मुआवजे का भुगतान नहीं करती, तब तक न तो सर्वे करने दिया जाएगा और ना ही अन्य काम. रैयतों ने स्थानीय पुलिस पर भी भेदभाव करने का आरोप लगाया है.

हालांकि मौके पर सर्वे को लेकर पहुंची टीम ग्रामीणों के विरोध के बाद भले ही मौके से लौट गई हो, लेकिन टीम में शामिल सदस्यों का साफ तौर पर कहना है कि वरीय अधिकारियों के निर्देश पर भूमि का सर्वे किया जा रहा है. ग्रामीणों को अगर अपनी आपत्ति दर्ज करानी है तो वे प्रबंधन से बात करें.

gold_zim

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

yatra
add44